वास्तु शास्त्र के अनुसार बाथरूम Vastu For Bathroom in Hindi

By | June 15, 2018

बाथरूम के लिए वास्तु टिप्स इन हिंदी Bathroom Vastu Tips in Hindi

वास्तु शास्त्र के अनुसार बाथरूम

वास्तु शास्त्र के अनुसार बाथरूम

नमस्कार दोस्तों | आज हम आपको वास्तु शास्त्र के अनुसार बाथरूम की जानकारी देने वाले हैं | वास्तु शास्त्र के अनुसार घर का नक्शा वास्तु नियम से बना होना जरूरी है | यदि आप वास्तु शास्त्र के नियम का पालन नहीं करते तो हो सकता है आपके घर वास्तु दोष बढ़ जाए और घर में क्लेश बीमारी आर्थिक समस्या उत्पन्न ना हो |

Vatsu For Bathroom in Hindi वास्तु शास्त्र के अनुसार बाथरूम कैसा हो

  • स्नानगृह या बाथरूम वास्तु शास्त्र के अनुसार घर के पूर्व दिशा में होना चाहिए | वास्तु शास्त्र के नियम अनुसार घर में बाथरूम की दिशा पूर्व दिशा सबसे लाभदायक मानी जाती है |
  • यदि आपके घर का मुख्य द्वार उत्तर दिशा में है तो वास्तु अनुसार आप बाथरूम को उत्तर या उत्तर पश्चिम दिशा में भी बना सकते हैं |
  • यदि आपके घर का मुख्य द्वार पूर्व दिशा में है तो वास्तु अनुसार आप बाथरूम को दक्षिण-पूर्व या पूर्व दिशा में बना सकते हैं |
  • घर का मुख्य द्वार यदि पश्चिम दिशा में है तो वास्तु शास्त्र अनुसार बाथरूम को पूर्व या पश्चिम दिशा में बना सकते हैं |
  • घर का मुख्य द्वार यदि पूर्व दिशा में है तो वास्तु शास्त्र अनुसार बाथरूम को पूर्व या दक्षिण दिशा में बनाना चाहिए |
  • यदि आपके घर का मुख्य द्वार दक्षिण में है तो वास्तु शास्त्र अनुसार बाथरूम की दिशा उत्तर-पश्चिम उचित मानी जाती है |
  • यदि आपको बाथरूम और शौचालय साथ में बनाना है तो वास्तु शास्त्र अनुसार घर के दक्षिण पश्चिम या दक्षिण दिशा में बनाना लाभदायक होता है |
  • घर के सीढ़ियों के नीचे बाथरूम में शौचालय को बनाना और शुभ माना जाता है | इसीलिए सीढ़ी के नीचे बाथरूम में शौचालय कभी ना बनाएं |
  • यदि बाथरूम में बाथरूम है तो उसे पूर्व या उत्तर पूर्व दिशा में लगाना लाभदायक होता है |
  • यदि आपके बाथरूम का नल हमेशा बहता रहता है या पानी टपकता है तो यह अशुभ होता है | वास्तु शास्त्र अनुसार बाथरूम के नल से पानी का टपकना अशुभ माना जाता है |

वास्तु अनुसार रसोई घर कैसा हो

  • बाथरूम में गीजर पूर्व दिशा या दक्षिण पूर्व की दिशा में ही लगाए | वास्तु शास्त्र अनुसार बाथरूम में गीजर उत्तर या पूर्व दिशा में लगाने से नकारात्मक ऊर्जा होती है |
  • बाथरूम में शावर उत्तर दिशा में या उत्तर पूर्व दिशा में लगाना शुभ माना जाता है |
  • घर के बाथरूम के दरवाजे और खिड़की की दिशा दक्षिण दिशा को छोड़कर किसी भी दिशा में आप बना सकते हैं |
  • वास्तु दोष का निवारण करने के लिए बाथरूम में हमेशा एक कांच के बर्तन में नमक रखें | ऐसा करने से आपके घर सकारात्मक विचार की ऊर्जा प्राप्ति होती है और नकारात्मक विचार दूर होते हैं |
  • बाथरूम में नीले रंग की बाल्टी शुभ मानी जाती है | लेकिन ध्यान रहे हमेशा नीले रंग की बाल्टी में अच्छा और साफ सुथरा पानी रहना चाहिए | वास्तु शास्त्र अनुसार बाथरूम में नीली बाल जी मैं अच्छा पानी होने से घर में सुख शांति और समृद्धि का वास होता है |

यह थी वास्तु शास्त्र के अनुसार बाथरूम की जानकारी हिंदी में |

घर में सीढीयों का वास्तु टिप्स

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *